fbpx

सर्वोत्तम परिणाम, सिहन्ता की पहचान

रामभक्त या भीतरघाती

रामभक्त या भीतरघाती:-आसान नहीं है विभीषण होना।।

रामायण भारतीय मानस की सबसे सरल किन्तु गहन और उदात्त अभिव्यक्ति है। इतिहास राम को प्रायः कम जानता है लेकिन साहित्य ने लगभग 300 तरह से राम का व्यक्तित्व गढ़ा है। महाकवि गुप्त ने ठीक ही कहा है कि-

“राम तुम्हारा वृत स्वयं ही काव्य है

कोई कवि बन जाए सहज संभाव्य है”

लेकिन राम कथा की लोकप्रिय स्वीकृति की विडंबना  यह है  कि लोग राम की वन्दना तो करते है लेकिन विभीषण पर भीतरघात का आरोप लगाते हैं। कई लोग तो मेघनाद और कुंभकर्ण की भी सराहना करते हैं क्योंकि वो अपने राजा के पक्ष में लड़े। इस मान्यता का मूलाधार देश और राष्ट्र के प्रति प्रेम में निहित है। लेकिन राम को सत्य का साकार मानने वाले भी यदि विभीषण की भर्त्सना करें तो यह  एक असंगत और अन्त:विरोधी विचार है । दूसरे शब्दों में कहें तो यह विचारहीन व्यवहार की जीवन दृष्टि है।

सिक्के का दूसरा पहलू यह है कि विभीषण का विरोध वस्तुतः राम का ही विरोध है अन्यथा रामायण की तो मूल संकल्पना ही राम बनाम रावण यानि कि सत्य बनाम असत्य ,न्याय बनाम अन्याय और सदाचार बनाम दुराचार की है। इसमें विभीषण यदि राम के साथ था तो वह सत्य के साथ था और उसे आरोपित करने वाली लोकप्रिय चेतना इतनी सतही है कि एक सच्चे राम मार्गी को हम रावण के द्वारा दिए शब्दकोश से से ही सम्बोधित करते हैं।

इस क्रम में यह भी स्मरणीय है कि उत्साही राष्ट्रवादियों ने राष्ट्र के बहुत ही एकांगी और अमंगलकारी रूप को समक्ष रखते हुए रावण और अन्य राक्षस योद्धाओं के साथ वृंदगान किया है। यदि राष्ट्र और रावण एक दूसरे का पर्याय है तो  मानव और सभ्यता को राम एवं रावण के बीच के चयन के द्वंद्व से गुजरना ही होगा। यहाँ यह भी ध्यान रखना चाहिए कि स्वयं राम भी राष्ट्रवादी थे जो:-

“जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरयसी” के आदर्श को मानते थे। यहाँ तक कि उन्होंने लंका के राजा को हरा कर भी उस राज्य को अपने अधीन नहीं किया क्योंकि राम की शक्ति लोकमंगल के पक्ष में थी। वो साम्राज्यवाद से प्रेरित नहीं थे, इसीलिए उन्होंने सदाचारी विभीषण को लंका का सम्प्रभू शासक बनाया। पुनः यह भी स्मरणीय है कि विभीषण कभी भी सत्ता लोलुप नहीं दिखा था। पहले वह रावण को सही का मार्ग दिखाया और जब अपने मत के कारण अपमानित किया गया तो वह राम की ओर मुड़ा।

यहॉं यह भी ध्यान रखना चाहिए कि विभीषण के विकल्प का कारण उसका अपमान भी नहीं था। जब रावण ने उसे विकल्पहीन कर दिया तब जाकर वह राम की छावनी की ओर मुड़ा। विभीषण का पक्ष यह था कि राजा राष्ट्र का पर्याय नहीं होता है। वस्तुतः विभीषण भी राष्ट्रवादी था और उसका राष्ट्रवाद लोकमंगल पर आधारित था जो अपनी प्रजा के हित में राम से युद्ध नहीं शांति का पक्षधर था। विभीषण जब राम से मिला था तब भी लंका की प्रजा का हित राम से उसकी वार्ता के केन्द्र में था।

वस्तुतः राम और विभीषण का संयोग स्वतंत्र राज्यों के बीच सह अस्तित्व पर आधारित “बसुधैब कुटुम्बकम”की संकल्पना का साकार था। स्मरणीय है कि राम और रावण की लड़ाई न तो दो राष्ट्रों की लड़ाई थी और न ही दो संस्कृतियों की। इसीलिए लक्ष्मण ने देवी निकुम्बला की पूजा के पहले ही मेघनाद वध किया। शिव और ब्रह्मा राम और रावण दोनों के लिए पूजनीय थे। राम नर रूप में नारायण थे जबकि रावण और मेघनाद को नारायण अस्त्र पर ही नाज था।

गहराई से देखें तो राम पराक्रम  और शक्ति की पराकाष्ठा  के समक्ष नर की प्रतिष्ठा का प्रतीक थे। वो साधारण में असाधारण की सम्भावना का प्रतिनिधि थे। वास्तव में यह दो मूल्यों की लड़ाई थी जिसमें एक तरफ़ शक्ति का दर्प और दुरूपयोग था तो दूसरी तरफ़ दुष्ट दलन का भाव था। एक तरफ़ जहां अति को अनन्त समझने का अज्ञान था वहीं दूसरी ओर अनन्त को अंतिम इकाई तक ले जाने की सद्बबूद्धि थी। राष्ट्र और राम दोनों को मंगलमूर्ति बनाना है विभीषण को यथोचित सम्मान देना होगा।

       विभीषण की कहानी का एक पक्ष कुलघातक से जुड़ा है। वह रावण और मेघनाद की मृत्यु का रहस्य बताया था। वस्तुतः विभीषण ऐसे प्रत्येक मामले में भावात्मक द्वंद्व से गुजरते हुए सत्य का संधान किया और सत्य के लिए अपने प्रिय और परिजन का मृत्यु शोक स्वीकार किया। वस्तुतः रामायण में सत्य के लिए विभीषण के द्वारा अनाचारी परिजनों के त्याग और पराभव में योगदान की कहानी अप्रतिम और आदरणीय है। रावण को परिजन मानकर यदि आप सीता हरण का साथ देने के लिए तैयार हैं तो आपका यह मूल्य द्रौपदियों के चीरहरण पर मौन रह कर हमेशा दुर्योधन का मनोबल बढ़ाएगा । व्यक्ति से बड़ा कुल होता है और कुल से बड़ा होता है देश। और देश हित का पालन करते  हुए यदि जगत कल्याण का मार्ग उपलब्ध हो तो यही मंगलकारी है।

इस कसौटी पर देखें तो विभीषण का व्यक्तित्व भीष्म,द्रोण और कर्ण की तुलना में सत्य के ज़्यादा क़रीब था। भीष्म ने वचन निभाने के लिए कुल की मर्यादा और स्वयं कुल दोनों का दम घुटने दिया।  द्रोण की राजभक्ति ने  उसे सत्य का प्रतिगामी बना दिया । कर्ण की मित्रता और अहसान ने हमेशा  ही उसे सत्य से विमुख ही रखा।

इन सभी विभूतियों की विशेषता यह थी कि ये महान पराक्रमी योद्धा और निजी जीवन में त्याग और बलिदान का प्रतीक पुरूष थे लेकिन सत्य के प्रति इनका परिप्रेक्ष्य ग़लत था। ये सत्य और धर्म के विरुद्ध ही धर्मयुद्ध में उतरे और अंततः भगवान को इनके विरुद्ध असाधारण उपाय कर इन्हें मार्ग से हटाना पड़ा जबकि विभीषण स्वयं भगवान के लिए सहायक सिद्ध हुए । वस्तुतः भीष्म ,द्रोण और कर्ण का सत्य नितांत ही निजी और युगीन  था जबकि विभीषण का सत्य सार्वजनिक और शाश्वत था।विभीषण होना रामभक्त होने  की चरम अवस्था है ।।

27 responses on "रामभक्त या भीतरघाती"

  1. online viagra buy generic viagra online mexican viagra

  2. viagra from india viagra online for sale where can i buy viagra over the counter

  3. real cialis without a doctor’s prescription cialis online cialis tadalafil 20 mg

  4. cheap viagra viagra for sale viagra without prescription

  5. ed pills that work erectile dysfunction medications ed natural treatment

  6. anti fungal pills without prescription non prescription ed drugs best male ed pills

  7. viagra without a doctor prescription canada buy viagra viagra from india

  8. cheap viagra online canadian pharmacy buy generic drugs generic viagra

  9. viagra online canadian pharmacy viagra viagra prescription

  10. generic for viagra generic viagra online buy generic viagra

  11. cheap online pharmacy generic cialis canadian medications

  12. how to get prescription drugs without doctor ED Pills best price for generic viagra on the internet

  13. viagra without a doctor prescription ED Pills Without Doctor Prescription medicine erectile dysfunction

  14. new ed treatments generic viagra pills for ed

  15. best ed pills non prescription cheap ed pills buy prescription drugs without doctor

  16. cialis lowest price 20mg cheap cialis what are the side effects of cialis

  17. generic cialis without prescription cheap cialis free cialis

  18. aspirin and ed best online canadian pharmacy online drugstore

  19. best non prescription ed pills drug prices comparison natural ed medications

  20. canadian pharmacy generic drugs from india

Leave a Message

Your email address will not be published.

© Sihanta IAS
X